कुछ आँखें इतनी हाज़िर-जवाब होती हैं

Ishqq Ke Phul Khilte Hain Terri KhubSurat Aankhon Mein,
Jahann Dekhe Tu Ek Najjar Wahan Khushbu Bikhhar Jaaye.
Binaa Puche Hi Sulajhh Jati Hai Sawaalon Ki Guthiyan,
Kuch Aankhein Itnni Hazr-Jawab Hoti Haiin.Khoobsurat-Shayari on Eyes

Hindi Shayari On Eyes, इश्क के फूल खिलते हैं तेरी खूबसूरत आँखों में

इश्क के फूल खिलते हैं तेरी खूबसूरत आँखों में,
जहाँ देखे तू एक नजर वहाँ खुशबू बिखर जाए।

बिना पूछे ही सुलझ जाती हैं सवालों की गुत्थियाँ,
कुछ आँखें इतनी हाज़िर-जवाब होती हैं।

Teri Aankhon Ki Tauhin Nahi Tohh Aur Kya Haii Yeh,
Mainne Dekhha Tere Chahne vale Kal Sharaab Pe Rahe The.
Kya Kahein, Kyaa Kyaa Kiyaa, Terri Nigahon Ne Suluk,
Dil Mein Ayi Dil Mein Thehri Dil Mein Paikan Ho Gayyi.

तेरी आँखों की तौहीन नहीं तो और क्या है यह,
मैंने देखा तेरे चाहने वाले कल शराब पी रहे थे।

क्या कहें, क्या क्या किया, तेरी निगाहों ने सुलूक,
दिल में आईं दिल में ठहरीं दिल में पैकाँ हो गईं।

Jab Bhhi Dekhoon Toh Nazzrein Churra Leti Hai Wo,
जब भी देखूं तो नज़रें चुरा लेती है वो,

Mainne Kaagaz Par Bhhi Banaa Ke Dekhhi Hain Aankhhein Uski.

मैंने कागज़ पर भी बना के देखी हैं आँखें उसकी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *