खुशी खुशी से आया है सावन-poem on nature in hindi

hindi poem for kids

हरी हरी खेतों में बरस रही है बूंदे,

haree haree kheton mein baras rahee hai boonde,

खुशी खुशी से आया है सावन,

Khushi khushi se aaya hai saaven

भर गया खुशियों से मेरा आंगन।

hindi poem for kids

Baar gaya khushiya se mera aagen 

ऐसा लग रहा है जैसे मन की कलियां खिल गई,

Essa lag raha hai jaise man ki kaliya khil gayi

ऐसा आया है बसंत,

Essa aaya hai basant

लेकर फूलों की महक का जशन

Lekar phoolon ki mahak ka jasahan 

धूप से प्यासे मेरे तन को,

Duup se pyar mere taan ko

बूंदों ने भी ऐसी अंगड़ाई,

boondon ne bhee aisee angadaee,

hindi diwas poem

उछल कूद रहा है मेरा तन मन,

Uchal kuud raha hai mera tan man

लगता है मैं हूं एक दामन।

Lagata hai me ek daaman 

यह संसार है कितना सुंदर,

Yhe sansaar kitna sunder 

लेकिन लोग नहीं हैं उतने अकलमंद

Lakin log nhi hai, utne akalmand

यही है एक निवेदन,

Yahi hai ek nevadan

मत करो प्रकृति का शोषण

Math kroprakrti ka shoshan

read more interesting Dua shayari and

जो मिल गया उसी का हाथ थाम लिया-love poem in hindi

जो मिल गया उसी का हाथ थाम लिया-love poem in hindi

hindi poem on nature

शाम की तरह हम ढलते जा रहे है,

Shaam ki tarah ham dhalate jaa rhe hai

बिना किसी मंजिल के चलते जा रहे है।

Binna kissi manjali ke chalte jaa rhe hai 

लम्हे जो सम्हाल के रखे थे जीने के लिये ,

Lamhe jo samhaal ke rakhe the jeene ke liye

वो खर्च किये बिना ही पिघलते जा रहे है।

hindi poem on nature

Voo karch kiye bina hie pighalate jaa rhe hai

धुये की तरह विखर गयी जिन्दगी मेरी हवाओ मैं,

Duuye ki tara vikher gaye zindagi meri haavo mai

बचे हुये लम्हे सिगरेट की तरह जलते जा रहे है।

Bache hue laamhe siragate ki tarah galate jaa rhe hai

poem on mother in hindi

जो मिल गया उसी का हाथ थाम लिया,

Jo mill gaya ussi ka haath taam liya

हम कपडो की तरह हमसफर बदलते जा रहे है।

Ham kapdo ki tarah hamsafar badalte jaa rhe hai

we have best collection of hindi judai shayari and

Kartavya apana nibhaata shikshak-hindi diwas poem

Kartavya apana nibhaata shikshak-hindi diwas poem

poem on nature in hindi

आदर्शों की मिसाल बनकर,

aadarshon ki misaal banakar

बाल जीवन संवारता शिक्षक |

Baal jeevan sanvaarata shikshak

सदाबहार फूल-सा खिलकर,

Sadabahar phool-sa khila kar,

महकता और महकाता शिक्षक ||

Mahkata aur mahkaata shikshak

नित नए प्रेरक आयाम लेकर

Neet naay prerak aayaam lekar

poem on nature in hindi

हर पल भव्य बनाता शिक्षक |

Haar pal baavye baanta shikshak

संचित ज्ञान का धन हमें देकर,

sanchit gyaan ka dhan hamen dekh kar,

खुशियां खूब मनाता शिक्षक ||

Khushiya khub manata shikshak

पाप व लालच से डरने की,

Paap ka lalach se darne ki

धार्मिक सीख सिखाता शिक्षक |

love poem in hindi

Daarmik sikh sekhata shikshak

देश के लिए मर मिटने की,

Dash ka liye mar mitne ki 

बलिदानी राह दिखाता शिक्षक ||

Balidaan raah dekhaata shikshak

प्रकाशपुंज का आधार बनकर,

Prakshpunj aadhar bankr 

कर्तव्य अपना निभाता शिक्षक |

Kartavya apana nibhaata shikshak

प्रेम सरिता की बनकर धारा,

Prem sarita ki bankr daara

नैया पार लगाता शिक्षक ||

Naiya paat lagaata shikshak

interesting Gham shayari for your friend and many other like

Jab bhaart aazad hua tha-motivational poem in hindi

Jab bhaart aazad hua tha-motivational poem in hindi

hindi poem for kids

जब भारत आज़ाद हुआ था|

Jab bhaart aazad hua tha

आजादी का राज हुआ था||

Aazadi ka raaj hua tha

वीरों ने क़ुरबानी दी थी|

Veero na kurbani di the

तब भारत आज़ाद हुआ था||

hindi poem for kids

Tab bhaart aazad hua tha

भगत सिंह ने फांसी ली थी|

Bhagat singh ne faasi lee the

इंदिरा का जनाज़ा उठा था||

Indira ka janaaza utha tha

इस मिटटी की खुशबू ऐसी थी

Iss mittie ki khusboo essi the

तब खून की आँधी बहती थी||

Tab khoon ki aandi bhaut the

वतन का ज़ज्बा ऐसा था|

Vatan ka zabaa essa tha

जो सबसे लड़ता जा रहा था||

Joo subse ladta jaa rha tha

लड़ते लड़ते जाने गयी थी|

Ladte ladte jaane gayi the

तब भारत आज़ाद हुआ था|

Tab bhaart aazad hua thA|

फिरंगियों ने ये वतन छोड़ा था|

इस देश के रिश्तों को तोडा था||

Iss desh ke rishtha ko tooda tha

फिर भारत दो भागो में बाटा था|

Fir bhaart ko baago me baata tha

एक हिस्सा हिन्दुस्तान था|

Ek hissa hindustan tha 

दूसरा पाकिस्तान कहलाया था|

poem on mother in hindi

Doosra pakistan khalaaya tha

सरहद नाम की रेखा खींची थी||

Saradh naam ki rakha kichi the

जिसे कोई पार ना कर पाया था|

Jisse koi paar na kar paaya tha

ना जाने कितनी माये रोइ थी,

Na jaane kittne maaye rooi the

ना जाने कितने बच्चे भूके सोए थे,

Na jaane kitne bacha bhuke soye the

हम सब ने साथ रहकर

Iss sub ne saath rakhkar

एक ऐसा समय भी काटा था||

Ek essa samaya be kaata tha 

विरो ने क़ुरबानी दी थी

Veero ne kurbani dii the

तब भारत आज़ाद हुआ था|

Tab baar aazad hua tha

get more hurt shayari collection and many or like हमसे ही अड़ गई-love poem in hindi

हमसे ही अड़ गई-love poem in hindi

hindi poem for kids

एक दिन बात की बात में

Ek din baat ki baat me  

बात बढ़ गई

Baat bd gayi 

हमारी घरवाली

Hamri garwali 

हमसे ही अड़ गई

Hamse hee ad gayi 

हमने कुछ नहीं कहा

Hamne kuch nhi kaha 

चुपचाप सहा

Chupchap saha 

कहने लगी-“आदमी हो

Khne lagi aadmi ho

hindi poem for kids

तो आदमी की तरह रहो

To aadmi ki tarh raho

आँखे दिखाते हो

Aakhe dikhate ho

कोइ अहसान नहीं करते

Koi aasan nhi karte

जो कमाकर खिलाते हो

Jo kamakr khelata ho

सभी खिलाते हैं

poem on mother in hindi

Kabhi khelata hai 

तुमने आदमी नहीं देखे

Tumne aadmi nhi dkha

झूले में झूलाते हैं

Juule me julta hai

देखते कहीं हो

Dakhte khai ho

और चलते कहीं हो

Aur chalte khai ho

कई बार कहा

Kai baar khaa

इधर-उधर मत ताको

Ider uder mth taako

बुढ़ापे की खिड़की से

Bhudape ki khidki se

जवानी को मत झाँको

Javni ko math jaako

कोई मुझ जैसी मिल गई

Koi mujhe jise milkr gayi

तो सब भूल जाओगे

To sab bhul jaoge

वैसे ही फूले हो

Vahe he fule ho

और फूल जाओगे

Aur ful jaoge

चन्दन लगाने की उम्र में

Chandan lagane ki umer me

पाउडर लगाते हो

Powder lagate ho

भगवान जाने

Bhagwan jaane

ये कद्दू सा चेहरा किसको दिखाते हो

Yhe kaadhu sa chehra kisko dekhte ho

कोई पूछता है तो कहते हो-

Koi puchta hai to khate ho

“तीस का हूँ।”

Tees ka hu

उस दिन एक लड़की से कह रहे थे

Umer ek din ek ladki se kha rhe the 

“तुम सोलह की हो

Tum soolh ki ho

तो मैं बीस का हूँ।”

To me bees ka hu

वो तो लड़की अन्धी थी

To wo ladki to aandi the

आँख वाली रहती

Aakhe wai rhate

तो छाती का बाल नोच कर कहती

To chaate ka baal nochkr khate

ऊपर ख़िज़ाब और नीचे सफेदी

Uper khajaab aur necha safadi

वाह रे, बीस के शैल चतुर्वेदी

Waah re, bees ke shail chaturvedi

हमारे डैडी भी शादी-शुदा थे

Hamre daddy be shaadi sudha the

मगर क्या मज़ाल

Mager kya majall 

कभी हमारी मम्मी से भी

Kabhi hamri mummy se bhi

आँख मिलाई हो

Aakh milai ho

मम्मी हज़ार कह लेती थीं

Mummy hajar kha lati the 

कभी ज़ुबान हिलाई हो

Kbhi juban helai ho

कमाकर पांच सौ लाते हो

Kamakr paanso late ho

और अकड़

Aur akad 

दो हज़ार की दिखाते हो

 Do hajar ki dekhate ho

हमारे डैडी दो-दो हज़ार

Hamare daddy do-do hajar

एक बैठक में हाल जाते थे

Ek batak me haal jaati tha

मगर दूसरे ही दिन चार हज़ार

Magar dusre he din chaar hajar 

न जाने, कहाँ से मार लाते थे

Na jaane,kha maar late the

माना कि मैं माँ हूँ

Maana ki me maa hu

तुम भी तो बाप हो

Tum be to baap ho

बच्चो के ज़िम्मेदार

Bache ki zimedari

तुम भी हाफ़ हो

Tum be haaf ho

अरे, आठ-आठ हो गए

Are, aath aath ho gye

तो मेरी क्या ग़लती

To meri kya glti

गृहस्थी की गाड़ी

Garhati ki gaadi 

एक पहिये से नहीं चलती

Ek paheyaese nh chalti

बच्चा रोए तो मैं मनाऊँ

Bache roye to me maanu

भूख लगे तो मैं खिलाऊँ

Bhuk lage to me khlau

और तो और

Aru to aur

दूध भी मैं पिलाऊँ

Dudh bhi me peelau

माना कि तुम नहीं पिला सकते

Maana ki tum nhi peela sakte 

मगर खिला तो सकते हो

Magar khela to skte ho 

अरे बोतल से ही सही

Aur botal se hi sahi

दूध तो पिला सकते हो

Dudh to peela sakte ho

मगर यहाँ तो खुद ही

Magar yaha to khud he

मुँह से बोतल लगाए फिरते हैं

Muh se botal lagaye firte hai

अंग्रेज़ी शराब का बूता नहीं

Angreji sharab ka bhut nhi 

देशी चढ़ाए फिरते हैं

Desi chadai ferte hai

हमारे डैडी की बात और थी

Hamre daddy ki baat or the

बड़े-बड़े क्लबो में जाते थे

Baade baade club me jaate the

पीते थे, तो माल भी खाते थे

Peete the, to maal be khate the

तुम भी चने फांकते हो

Tum bhi chne fukate ho 

न जाने कौन-सी पीते हो

Na jaane konse peete ho

रात भर खांसते हो

Raat bar khaste ho 

मेरे पैर का घाव

Mere per ka gaav

धोने क्या बैठे

Doone ky bathe

नाखून तोड़ दिया

Naakun tord diya

अभी तक दर्द होता है

Kbhi kbhi dard hota hai

तुम सा भी कोई मर्द होता है?

Tum sa bhi koi mard hota hai?

जब भी बाहर जाते हो

Jab be bhar jaate ho

कोई ना कोई चीज़ भूल आते हो

Koi na ki cheez bhul aate ho

न जाने कितने पैन, टॉर्च

Na jaane kitne pen,

और चश्मे गुमा चुके हो 

Aur chasme gum chuke hai

अब वो ज़माना नहीं रहा

Ab wo jamana nhi rha

जो चार आने के साग में

Jo chaar aane ke saag mai

कुनबा खा ले

Kunba kha le

दो रुपये का साग तो

Do rupye ka saag to

अकेले तुम खा जाते हो

 Aakle kha jaate ho

उस वक्त क्या टोकूं

Uss wakt kya tokun

जब थके मान्दे दफ़्तर से आते हो

Jab thake mande dafater se aate ho

कोई तीर नहीं मारते

Koi teer nhi maate 

जो दफ़्तर जाते हो

love poem in hindi

Joo dafater jaaate ho 

रोज़ एक न एक बटन तोड़ लाते हो

Rooj ek na ek batan tord laate ho

मैं बटन टाँकते-टाँकते

Me batan taakte-taakte 

काज़ हुई जा रही हूँ

Kaaj hui jaa rhi hai

मैं ही जानती हूँ

Me jaanti hu

कि कैसे निभा रही हूँ

Ki kese neeba rhi hu

कहती हूँ, पैंट ढीले बनवाओ

Khati hu peent deele banvaao

तंग पतलून सूट नहीं करतीं

Pang patlun sut nhi khati

किसी से भी पूछ लो

Kissi se be puch loo

झूठ नहीं कहती

Jutth nhi khatii

इलैस्टिक डलवाते हो

Elastic dalwate ho

अरे, बेल्ट क्यूँ नहीं लगाते हो

Aare, balt ku nhi laagte ho

फिर पैंट का झंझट ही क्यों पालो

Fir pant ka jhanjhat he ku paalo

धोती पहनो ना,

Dhoti phno na

जब चाहो खोल लो

Jab chaao khol lo

और जब चाहो लगा लो

Aur jab chaao laga lo

मैं कहती हूँ तो बुरा लगता है

Ma khati hu to bura lagta hai

बूढ़े हो चले

Buude ho chle ho

मगर संसार हरा लगता है

Magar sansaar hara lagta haii

अब तो अक्ल से काम लो

Ab to akle se kaam lo

राम का नाम लो

Raam ka naam lo

शर्म नहीं आती

Shram nhi aati

रात-रात भर

Raat raat bar

बाहर झक मारते हो

Bhaar jaak maate ho

औरत पालने को कलेजा चाहिये

 Oorat paalne lo kaleja chaheye

गृहस्थी चलाना खेल नहीं

Garhati chlna khal nhi

for more good attitude shayari stuff

लडकें की तरह लड़की भी-hindi poem for kids

लडकें की तरह लड़की भी-hindi poem for kids

hindi poem

लडकें की तरह लड़की भी, मुट्ठी बांध के पैदा होती हैं।
लडकें की तरह लड़की भी, माँ की गोद में हसती रोती हैं।।

करते शैतानियाँ दोनों एक जैसी।
करते मनमानियां दोनों एक जैसी।।

दादा की छड़ी दादी का चश्मा तोड़ते हैं।
दुल्हन के जैसे माँ का आँचल ओढ़ते हैं।।

hindi poem

भूक लगे तो रोते हैं, लोरी सुन कर सोते हैं।
आती हैं दोनों की जवानी, बनती हैं दोनों की कहानी।।

दोनों कदम मिलकर चलते हैं।
दोनों दिपक बनकर जलते हैं।।

hindi poem for kids

लड़के की तरह लड़की भी नाम रोशन करती हैं।
कुछ भी नहीं अंतर फिर क्यूँ जन्म से पहले मारी जाती हैं।।

बेटियां बेटियां बेटियां ..
बेटियां बेटियां बेटियां ..

get more collection of love shayari and is duniya mein sada nibhao-poem in Hindi

is duniya mein sada nibhao-poem in Hindi

hindi poem for kids

पानी की महिमा धरती पर, है जिसने पहचानी ।

paanee kee mahima dharatee par, hai jisane pahachaanee

उससे बढ़कर और नहीं है, इस दुनिया में ज्ञानी ।।

usase badhakar aur nahin hai, is duniya mein gyaanee

जिसमें ताकत उसके आगे, भरते हैं सब पानी ।

jisamen taakat usake aage, bharate hain sab paanee .

पानी उतर गया है जिसका, उसकी खतम कहानी ।।

paanee utar gaya hai jisaka, usakee khatam kahaanee

जिसकी मरा आँख का पानी, वह सम्मान न पाता ।

jisakee mara aankh ka paanee, vah sammaan na paata

पानी उतरा जिस चेहरे का, वह मुर्दा हो जाता ॥

paanee utara jis chehare ka, vah murda ho jaata

झूठे लोगों की बातें पानी पर खिंची लकीरें ।

jhoothe logon kee baaten paanee par khinchee lakeeren

छोड़ अधर में चल देंगे वे, आगे धीरे-धीरे । ।hindi poem for kids

chhod adhar mein chal denge ve, aage dheere-dheere

जिसमें पानी मर जाता है, वह चुपचाप रहेगा ।

jisamen paanee mar jaata hai, vah chupachaap rahega

बुरा-भला जो चाहे कह लो, सारी बात सहेगा ।।

bura-bhala jo chaahe kah lo, saaree baat sahega

लगा नहीं जिसमें पानी, उपज न वह दे पाता ।

laga nahin jisamen paanee, upaj na vah de paata

फसल सूख माटी में मिलती, नहीं अन्न से नाता ।।

phasal sookh maatee mein milatee, nahin ann se naata

बिन पानी के गाय-बैल, नर नारी प्यासे मरते ।

bin paanee ke gaay-bail, nar naaree pyaase marate .

पानी मिल जाने पर सहसा गहरे सागर भरते ।।

paanee mil jaane par sahasa gahare saagar bharate

बिन पानी के धर्म-काज भी, पूरा कभी न होता ।

bin paanee ke dharm-kaaj bhee, poora kabhee na hota

बिन पानी के मोती को, माला में कौन पिरोता ।।

bin paanee ke motee ko, maala mein kaun pirota

इस दुनिया से चल पड़ता है, जब साँसों का मेला ।

is duniya se chal padata hai, jab saanson ka mela .

गंगा-जल मुँह में जाकर के, देता साथ अकेला । ।

ganga-jal munh mein jaakar ke, deta saath akela

उनसे बचकर रहना जो पानी में आग लगाते ।

unase bachakar rahana jo paanee mein aag lagaate

पानी पीकर सदा कोसते, वे कब खुश रह पाते ।।

paanee peekar sada kosate, ve kab khush rah paate ..

पानी पीकर जात पूछते हैं केवल अज्ञानी।

motivational poem in hindi

paanee peekar jaat poochhate hain keval agyaanee.

चुल्लू भर पानी में डूबें, उनकी दुखद कहानी ॥

chulloo bhar paanee mein dooben, unakee dukhad kahaanee

चिकने घड़े न गीले होते, पानी से घबराते ।

chikane ghade na geele hote, paanee se ghabaraate .

बुरा-भला कितना भी कह लो, तनिक न वे शरमाते ॥

bura-bhala kitana bhee kah lo, tanik na ve sharamaate .

नैनों के पानी से बढ़कर और न कोई मोती ।

nainon ke paanee se badhakar aur na koee motee .

बिना प्यार का पानी पाए, धरती धीरज खोती ।।

bina pyaar ka paanee pae, dharatee dheeraj khotee ..

प्यार ,दूध पानी-सा मिलता है जिस भावुक मन में ।

pyaar ,doodh paanee-sa milata hai jis bhaavuk man mein ।

उससे बढ़कर सच्चा साथी, और नहीं जीवन में ।।

usase badhakar sachcha saathee, aur nahin jeevan mein ।।

जीवन है बुलबुला मात्र बस, सन्त कबीर बतलाते ।

jeevan hai bulabula maatr bas, sant kabeer batalaate

इस दुनिया में सदा निभाओ, प्रेम -नेम के नाते ।।

 is duniya mein sada nibhao, prem -nem ke naate

 To  get more alone shayari you can read छम-छम बूँदे बरखा की- hindi poem

छम-छम बूँदे बरखा की- hindi poem

poem in Hindi

छम-छम बूँदे बरखा की

chham-chham boonde barakha kee

लेकर आई है संगीत नया

lekar aaee hai sangeet naya

हरियाली और प्रेम का

hariyaalee aur prem ka

hindi shayari

बना हो जैसे गीत नया

bana ho jaise geet naya

मनभावन-सा लगे हैं सावन

manbhaavan -saa laagne hai saave

हर चितवन हो गई है पावन

Har chetavn ho jayi hai paavan 

मेघों ने मानों झूमकर

Meggo ne maano jumkar

धरती की प्यास बुझाई है

Dharti ki piyas bhujai 

hindi poem for kids

खेलकर खेतों में

Khalkar  khato main

फैलकर रेतों में

Falkar raato main

मतवाली बरखा आई है

Mathwaali barkhaa aai hai

संग अपने

 Saag apne

त्यौहारों की भी

Tyauhaaron ki bhi

खुशहाली वो लाई है

Kushaali voo laai hai

To get more good morning shayari and more interesting फिर से बारिश का मौसम आया-hindi poem for kids

फिर से बारिश का मौसम आया-hindi poem for kids

hindi poem

देखो एक बार फिर से बारिश का मौसम आया,

dekho ek baar phir se baarish ka mausam aaya,

अपने साथ सबके चेहरों पर मुस्कान है लाया|

apane saath sabake cheharon par muskaan hai laaya|

देखो वर्षा में हवा कैसी चल रही मंद-मंद,

dekho varsha mein hava kaisee chal rahee mand-mand,

क्या बच्चे क्या बूढ़े सब लेते इसका आनंद||

hindi poem

kya bachche kya boodhe sab lete isaka aanand||

देखो चारो ओर फैली यह अद्भुत हरियाली,

dekho chaaro or phailee yah adbhut hariyaalee,

जिसकी मनमोहक छंटा है सबसे निराली|

jisakee manamohak chhanta hai sabase niraalee|

जिसको देखो वह इस मौसम के गुण गाता,

jisako dekho vah is mausam ke gun gaata,

बारिश का मौसम है ऐसा जो सबके मन को भाता||

baarish ka mausam hai aisa jo sabake man ko bhaata||

मेरे मित्रों तुम भी बाहर निकलो लो वर्षा का आनंद,

mere mitron tum bhee baahar nikalo lo varsha ka aanand,

poem in Hindi

देखो इस मनमोहक वर्षा को जो नही हो रही बंद|

dekho is manamohak varsha ko jo nahee ho rahee band|

छोटे बच्चे कागज की नाव बनाकर पानी में दौड़ाते है,

chhote bachche kaagaj kee naav banaakar paanee mein daudaate hai,

वर्षा ऋतु में ऐसे नजारे नित्य दिल को बहलाते है||

varsha rtu mein aise najaare nity dil ko bahalaate hai||

तो आओ हम सब संग मिलकर झूमे गाये,

to aao ham sab sang milakar jhoome gaaye,

इस मनभावी वर्षा ऋतु का आनंद उठाये|

is manabhaavee varsha rtu ka aanand uthaaye|

check the best funny shayari collection

लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती-hindi poem for kids

लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती-hindi poem for kids

hindi poem for kids

लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती

laharon se darakar nauka paar nahin hotee

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

koshish karane vaalon kee kabhee haar nahin hotee

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चढ़ती है

nausheen cheentee jab daana lekar chadhatee hai

चढ़ती दीवारों पर सौ बार फ़िसलती है

 

chadhati deewaron par sauhindi poem for kids baar fisalatee hai

मन का विश्वास रगों में साहस भरता है

man ka vishvaas ragon mein saahas bharata ha

चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है

Chadkar  girna, girkar chadna na aakarta hai

मेहनत उसकी बेकार नहीं हर बार होती

Mahent un ki bekaar nhi har baar hoti hai

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

Koshish karne walon ki kbhi haar nhi hoti

डुबकियाँ सिंधु में गोताखोर लगाता है

dubakiyaan sindhu main gotakhor lagaata hai

hindi poem

जा-जा कर खाली हाथ लौट कर आता है

 Jaa jaa kar kaali haath loot kr aata hai

मिलते न सहज ही मोती गहरे पानी में

Milte na sahaj moti jhare pani me

बढ़ता दूना विश्वास इसी हैरानी में

badhata doona vishvaas isee hairaanee mein

मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती

mutthee usakee khaalee har baar nahin hotee

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

koshish karane vaalon kee kabhee haar nahin hotee

असफ़लता एक चुनौती है, स्वीकार करो

asafalata ek chunautee hai, sveekaar karo

क्या कमी रह गई देखो और सुधार करो

kya kamee rah gaee dekho aur sudhaar karo

जब तक न सफल हो, नींद-चैन को त्यागो तुम

jab tak na saphal ho, neend-chain ko tyaago tum

संघर्षों का मैदान छोड़ मत भागो तुम

sangharshon ka maidaan chhod mat bhaago tum

कुछ किये बिना ही जय-जयकार नहीं होती

kuchh kiye bina hee jay-jayakaar nahin hotee

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

koshish karane vaalon kee kabhee haar nahin hotee

interested to read Good morning shayari and मुझे तो अँधेरों में जलना भी आता है-hindi poem