इस सलीके से मुझे क़त्ल किया है उसने-Hurt Shayari

Hurt shayari

Sunaa Hae Uskoo Mohabbat Duaayein Detii Hae,

सुना है उस को मोहब्बत दुआएँ देती है,

Joo Dil Per Chott Tohh Khayee Magarr Gilaa Naa Karee.

जो दिल पे चोट तो खाए मगर गिला न करे।

Chup Hae Kisii Sabrr See Tohh Pattharr Naa Samajhh,

चुप हैं किसी सब्र से तो पत्थर न समझ हमें,

Hurt shayari

Dill Pee Asarr Huaa Haii Terii Baat Baat Kaa.

दिल पे असर हुआ है तेरी बात-बात का।

Bar baad Bastiyoo Mei Tumm Kiss Koo Dhoondhtee Hoo,

बरबाद बस्तियों में तुम किसको ढूंढ़ते हो,

Ujdee Huyee Logo Kee Thhikanee Nhii Hotee.

उजड़े हुए लोगों के ठिकाने नहीं होते।

Hurt shayari

Zakhmm Denee Kaa Tareekaa Koii Naa Milaa Unhei,

ज़ख्म देने का तरीका कोई न मिला उन्हें,

Mehfil Mei Chhedtee Rhee Zikrr-e-Wafa Baar-Baar.

महफ़िल में छेड़ते रहे ज़िक्र-ए-वफा बार-बार।

Iss Saleekee See Mujhee katl Kiyaa Hai Uss Nee,

इस सलीके से मुझे क़त्ल किया है उसने,

Duniyaa Abb Bei Samjhtii Hai Kee Zindaa Hoon Mai.

दुनिया अब भी समझती है कि ज़िंदा हूँ मैं।

Harf-Harf Iss Kadarr Thaa Talkhiyon See Bharaa,

हर्फ़-हर्फ़ इस कदर था तल्खियों से भरा,

Aakhirii Khatt Teraa Deemak See Bei Khayaa Naa Gya.

आखिरी ख़त तेरा दीमक से भी खाया ना गया।

Latest romanitc shayari  collection ये नज़र चुराने की आदत-Heart Touching Shayari

ये नज़र चुराने की आदत-Heart Touching Shayari

Heart Touching Shayari

Khwahish Tohh Thee Milnee Kii

ख्वाहिश तो थी मिलने की

Perr Kbhi Koshish Nhi Kii,

पर कभी कोशिश नहीं की,

Sochaa Jab Khudaa Manaa Haii Uskoo

सोचा जब खुदा माना है उसको

Heart Touching Shayari

Tohh Bin Dekhee He Poojengee.

तो बिन देखे ही पूजेंगे।

Yee Najar Churanee Kii Aadatt

ये नज़र चुराने की आदत

Heart Touching Shayari

Aaj Bei Nhi Badlii Unke,

आज भी नहीं बदली उनकी,

Kbhii Meree Liyee Zamanee See orr

कभी मेरे लिए ज़माने से और

Abb Zamanee Kee Liyee Hum See.

अब ज़माने के लिए हमसे।

Kush Kismat Hotee Hee Wohh Joo

खुश किस्मत होते है वो जो

Talash Bantee Hae Kisii Kei,

तलाश बनते है किसी की,

Varnaa Pasandd Tohh Koii Bei,

वरना पसंद तो कोई भी

Kisii Koo Bei Karr Letaa Hei.

किसी को भी कर लेता है

Find more friendship shayari . ​ले चले हम चिराग़ हवाओं के सामने-Dua Shayari