मुझे बसने नहीं देता-Dil Shayari

Dil Shayari

Teraa Khayaal Terii Talab orr Terii Aarzzoo,

तेरा ख़याल तेरी तलब और तेरी आरज़ू,

Ekk Bheed See Lagee Hee Meree Dil Kee Shaharr Mee.

इक भीड़ सी लगी है मेरे दिल के शहर में।

Dil Shayari

Dil Lekee Muftt Kahtee Hee Kuchh Kaam Kee Nhii,

दिल लेके मुफ्त कहते हैं कुछ काम का नहीं,

Ulti Shikayatein Hui Ahsaan Hoo Gyaa.

उल्टी शिकायतें हुईं अहसान तो गया।

Chahee Tumm Band Krr Loo Dil Kee Darwazee Saaree,

चाहे तुम बंद कर लो दिल के दरवाजे सारे,

Dil Shayari

Humm Dil Meee Utarrr Jayengee Kalamm Kee Sahaaree.

हम दिल मे उतर जायेंगे कलम के सहारे।

Sochtaa Hoonn Kee Teree Dil Meee Utarr Kee Dek hunn,

सोचता हूँ कि तेरे दिल में उतर के देखूँ,

Kyaa Basaaa Hai Joo Mujhee Basnee Nhii Detaa.

क्या बसा है जो मुझे बसने नहीं देता।

Koii Nhii Kartaa Abb Imdaad Meree Dill Kii,

कोई नहीं करता अब इम्दाद मेरे दिल की,

Dushman Toh Dushman Apne Bhi Tadpate Hain.

दुश्मन तो दुश्मन अपने भी तड़पाते हैं

For more good Bewafa shayari you can read इस दिल में तेरी चाहत ऐसे बसा ली है-Doorie Shayari