काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।- Shayari On Eyes

hindi shayari

UthhTi Nhi Ha Aankhh Kisii or Kii Taraf,

उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ

Pabandd Kr Gyii Ha Kisii Kiii Najarr Mujheee,

पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,

Imaann Kii Tooo Yee Ha Kee Imaann Abb Khann,

ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ,

Ka firr Bnaaa Gayii Terii Ka firr Najarr Mujhee.

काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे। 

Aankhein Shayari

Mahektaa Huaa Jismm Teraa Gulaaab Jaisaa Ha,

महकता हुआ जिस्म तेरा गुलाब जैसा है,

Neendd Kee Sfarr Meinn Tuu Ekk Khwaaab Jaisaa Ha,

नींद के सफर में तू एक ख्वाब जैसा है,

Doo Ghoontt Peee Lenee Dee Aankhonn Kee Isss Pyaalee See,

दो घूँट पी लेने दे आँखों के इस प्याले से,

Nashaaa Terii Aankhoonn kaa Sharaab Jaisaa Ha.

नशा तेरी आँखों का शराब जैसा है।

Shayari On Eyes

Nashaa Jarooriii Haiii Zindagii Kee Liyee,

नशा जरूरी है ज़िन्दगी के लिए,

Parr Sirff Sharabb Hii Nhii Haii Be khudii Kee Liyee,

पर सिर्फ शराब ही नहीं है बेखुदी के लिए,

Kisii Kii Mastt Nigaahoon Meinn Dooob Jaaoo,

किसी की मस्त निगाहों में डूब जाओ,

Badaa Haseen Samandar Haii Khud khushii Kee Liyee.

बड़ा हसीं समंदर है ख़ुदकुशी के लिए।

Read more Love Shayari Like this: क्या इसी एहसास को दुनिया ने इश्क़ का नाम दिया है।