हमसे ही अड़ गई-love poem in hindi

hindi poem for kids

एक दिन बात की बात में

Ek din baat ki baat me  

बात बढ़ गई

Baat bd gayi 

हमारी घरवाली

Hamri garwali 

हमसे ही अड़ गई

Hamse hee ad gayi 

हमने कुछ नहीं कहा

Hamne kuch nhi kaha 

चुपचाप सहा

Chupchap saha 

कहने लगी-“आदमी हो

Khne lagi aadmi ho

hindi poem for kids

तो आदमी की तरह रहो

To aadmi ki tarh raho

आँखे दिखाते हो

Aakhe dikhate ho

कोइ अहसान नहीं करते

Koi aasan nhi karte

जो कमाकर खिलाते हो

Jo kamakr khelata ho

सभी खिलाते हैं

poem on mother in hindi

Kabhi khelata hai 

तुमने आदमी नहीं देखे

Tumne aadmi nhi dkha

झूले में झूलाते हैं

Juule me julta hai

देखते कहीं हो

Dakhte khai ho

और चलते कहीं हो

Aur chalte khai ho

कई बार कहा

Kai baar khaa

इधर-उधर मत ताको

Ider uder mth taako

बुढ़ापे की खिड़की से

Bhudape ki khidki se

जवानी को मत झाँको

Javni ko math jaako

कोई मुझ जैसी मिल गई

Koi mujhe jise milkr gayi

तो सब भूल जाओगे

To sab bhul jaoge

वैसे ही फूले हो

Vahe he fule ho

और फूल जाओगे

Aur ful jaoge

चन्दन लगाने की उम्र में

Chandan lagane ki umer me

पाउडर लगाते हो

Powder lagate ho

भगवान जाने

Bhagwan jaane

ये कद्दू सा चेहरा किसको दिखाते हो

Yhe kaadhu sa chehra kisko dekhte ho

कोई पूछता है तो कहते हो-

Koi puchta hai to khate ho

“तीस का हूँ।”

Tees ka hu

उस दिन एक लड़की से कह रहे थे

Umer ek din ek ladki se kha rhe the 

“तुम सोलह की हो

Tum soolh ki ho

तो मैं बीस का हूँ।”

To me bees ka hu

वो तो लड़की अन्धी थी

To wo ladki to aandi the

आँख वाली रहती

Aakhe wai rhate

तो छाती का बाल नोच कर कहती

To chaate ka baal nochkr khate

ऊपर ख़िज़ाब और नीचे सफेदी

Uper khajaab aur necha safadi

वाह रे, बीस के शैल चतुर्वेदी

Waah re, bees ke shail chaturvedi

हमारे डैडी भी शादी-शुदा थे

Hamre daddy be shaadi sudha the

मगर क्या मज़ाल

Mager kya majall 

कभी हमारी मम्मी से भी

Kabhi hamri mummy se bhi

आँख मिलाई हो

Aakh milai ho

मम्मी हज़ार कह लेती थीं

Mummy hajar kha lati the 

कभी ज़ुबान हिलाई हो

Kbhi juban helai ho

कमाकर पांच सौ लाते हो

Kamakr paanso late ho

और अकड़

Aur akad 

दो हज़ार की दिखाते हो

 Do hajar ki dekhate ho

हमारे डैडी दो-दो हज़ार

Hamare daddy do-do hajar

एक बैठक में हाल जाते थे

Ek batak me haal jaati tha

मगर दूसरे ही दिन चार हज़ार

Magar dusre he din chaar hajar 

न जाने, कहाँ से मार लाते थे

Na jaane,kha maar late the

माना कि मैं माँ हूँ

Maana ki me maa hu

तुम भी तो बाप हो

Tum be to baap ho

बच्चो के ज़िम्मेदार

Bache ki zimedari

तुम भी हाफ़ हो

Tum be haaf ho

अरे, आठ-आठ हो गए

Are, aath aath ho gye

तो मेरी क्या ग़लती

To meri kya glti

गृहस्थी की गाड़ी

Garhati ki gaadi 

एक पहिये से नहीं चलती

Ek paheyaese nh chalti

बच्चा रोए तो मैं मनाऊँ

Bache roye to me maanu

भूख लगे तो मैं खिलाऊँ

Bhuk lage to me khlau

और तो और

Aru to aur

दूध भी मैं पिलाऊँ

Dudh bhi me peelau

माना कि तुम नहीं पिला सकते

Maana ki tum nhi peela sakte 

मगर खिला तो सकते हो

Magar khela to skte ho 

अरे बोतल से ही सही

Aur botal se hi sahi

दूध तो पिला सकते हो

Dudh to peela sakte ho

मगर यहाँ तो खुद ही

Magar yaha to khud he

मुँह से बोतल लगाए फिरते हैं

Muh se botal lagaye firte hai

अंग्रेज़ी शराब का बूता नहीं

Angreji sharab ka bhut nhi 

देशी चढ़ाए फिरते हैं

Desi chadai ferte hai

हमारे डैडी की बात और थी

Hamre daddy ki baat or the

बड़े-बड़े क्लबो में जाते थे

Baade baade club me jaate the

पीते थे, तो माल भी खाते थे

Peete the, to maal be khate the

तुम भी चने फांकते हो

Tum bhi chne fukate ho 

न जाने कौन-सी पीते हो

Na jaane konse peete ho

रात भर खांसते हो

Raat bar khaste ho 

मेरे पैर का घाव

Mere per ka gaav

धोने क्या बैठे

Doone ky bathe

नाखून तोड़ दिया

Naakun tord diya

अभी तक दर्द होता है

Kbhi kbhi dard hota hai

तुम सा भी कोई मर्द होता है?

Tum sa bhi koi mard hota hai?

जब भी बाहर जाते हो

Jab be bhar jaate ho

कोई ना कोई चीज़ भूल आते हो

Koi na ki cheez bhul aate ho

न जाने कितने पैन, टॉर्च

Na jaane kitne pen,

और चश्मे गुमा चुके हो 

Aur chasme gum chuke hai

अब वो ज़माना नहीं रहा

Ab wo jamana nhi rha

जो चार आने के साग में

Jo chaar aane ke saag mai

कुनबा खा ले

Kunba kha le

दो रुपये का साग तो

Do rupye ka saag to

अकेले तुम खा जाते हो

 Aakle kha jaate ho

उस वक्त क्या टोकूं

Uss wakt kya tokun

जब थके मान्दे दफ़्तर से आते हो

Jab thake mande dafater se aate ho

कोई तीर नहीं मारते

Koi teer nhi maate 

जो दफ़्तर जाते हो

love poem in hindi

Joo dafater jaaate ho 

रोज़ एक न एक बटन तोड़ लाते हो

Rooj ek na ek batan tord laate ho

मैं बटन टाँकते-टाँकते

Me batan taakte-taakte 

काज़ हुई जा रही हूँ

Kaaj hui jaa rhi hai

मैं ही जानती हूँ

Me jaanti hu

कि कैसे निभा रही हूँ

Ki kese neeba rhi hu

कहती हूँ, पैंट ढीले बनवाओ

Khati hu peent deele banvaao

तंग पतलून सूट नहीं करतीं

Pang patlun sut nhi khati

किसी से भी पूछ लो

Kissi se be puch loo

झूठ नहीं कहती

Jutth nhi khatii

इलैस्टिक डलवाते हो

Elastic dalwate ho

अरे, बेल्ट क्यूँ नहीं लगाते हो

Aare, balt ku nhi laagte ho

फिर पैंट का झंझट ही क्यों पालो

Fir pant ka jhanjhat he ku paalo

धोती पहनो ना,

Dhoti phno na

जब चाहो खोल लो

Jab chaao khol lo

और जब चाहो लगा लो

Aur jab chaao laga lo

मैं कहती हूँ तो बुरा लगता है

Ma khati hu to bura lagta hai

बूढ़े हो चले

Buude ho chle ho

मगर संसार हरा लगता है

Magar sansaar hara lagta haii

अब तो अक्ल से काम लो

Ab to akle se kaam lo

राम का नाम लो

Raam ka naam lo

शर्म नहीं आती

Shram nhi aati

रात-रात भर

Raat raat bar

बाहर झक मारते हो

Bhaar jaak maate ho

औरत पालने को कलेजा चाहिये

 Oorat paalne lo kaleja chaheye

गृहस्थी चलाना खेल नहीं

Garhati chlna khal nhi

for more good attitude shayari stuff

लडकें की तरह लड़की भी-hindi poem for kids

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *