बेहद हूँ बेहिसाब हूँ बेइन्तहा हूँ मैं।-Attitude Shayari

Attitude Shayari

Hak See Doo Too Tum harii Nafratt Bee kabool Hum mee,

हक़ से दो तो तुम्हारी नफरत भी कबूल हमें,

Khai raat Mee Too Hamm Tum harii Mohabbat Bee Naa Lee.

खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें।

Suraj Dhalaa Too Kadd See Unchee Hoo Gyee Saayee,

सूरज ढला तो कद से ऊँचे हो गए साये,

Kbhii Pairoo See Roundii thee Yehii Par chhaiyann Hamnee.

कभी पैरों से रौंदी थी यहीं परछाइयां हमने।

attitude Shayari

Hamm Too Aankhonn Mee Sanwartee He Wahinn Sanwrengee,

हम तो आँखों में संवरते हैं वहीं संवरेंगे,

Ham Nhii Jaantee Aayinee Khaann Rkhee Hee.

हम नहीं जानते आईने कहाँ रखें हैं।

Mujh Koo Meree Wajood Kii Hadd Takk Naa Jaaniyee,

मुझको मेरे वजूद की हद तक न जानिए,

Be Hadd Hoon, Be Hisaab Hoon, BeIntee haan Hoon Mee.

बेहद हूँ बेहिसाब हूँ बेइन्तहा हूँ मैं।

Share some time reading Aansoo Shayari! समंदर में उतरता हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *