बचपन है ऐसा खजाना-hindi poem for kids

Hindi poem

बचपन है ऐसा खजाना

bachapan hai aisa khajaana

आता है ना दोबारा

Aata hai naa dobaara

मुस्किल है इसको भूल पाना

Muskil hai isako bhool paana

वो खेलना कूदना और खाना

Voo khelna koodana or khaana

मौज मस्ती में बखलाना

Mauj masti main bakhalaana

वो माँ की ममता और वो पापा का दुलार

Vo maa ki mamta vo papa ka dulaar

भुलाये ना भूले वह सावन की फुवार

bhulaaye na bhoole vah saavan kee phuvaar

मुस्किल है इन सभी को भूलना

 Muskil hai isn subhi ko bhulna

वह कागज की नाव बनाना

vah kaagaj kee naav banaana

वो बारिश में खुद को भीगना

Vo barish main khud ko bheegana

वो झूले झुलना और और खुद ही मुस्कुराना 

vo jhoole jhulana aur aur khud hee muskuraana

वो यारो की यारी में सब भूल जाना

Vo yaaro ki yaari main sab bhul jaana

और डंडे से गिल्ली को मरना

Aur dande se gillee ko marana

वो अपने होमवर्क से जी चुराना

Vo apne homework see jii churna

और टीचर के पूछने पर तरह तरह के बहाने बनाना

Our teacher ke puchne per tarah tarah ke bahaane banaana 

बहुत मुस्किल है इनको भूलना…

Bhut muskil hai isko bhulna

वो एग्जाम में रट्टा लगाना

Vo exam main ratta lagaana

उसके बाद रिजल्ट के डर से बहुत घबराना

Usko bad result ke dar see bhut gabraana

वो दोस्तों के साथ साइकिल चलाना

Hindi poem

Vo doston ke sath cycle chalna 

वो छोटी छोटी बातो पर रूठ जाना

Vo choti choti baato per ruth jaana

बहुत मुस्किल है इनको भुलाना…

Bhut muskil hai inko bhulna

वो माँ का प्यार से मनाना

Vo maa ka pyar se manana

motivational poem in hindi

वो पापा के साथ घुमने के लिए जाना

Vo papa ke sath ghumne ke liye jaana

और जाकर पिज्जा और बर्गेर खाना

Aur jakar pizza aur bugger khaana

याद आता है वह सब जबान

poem in Hindi

Yaad aata hai vah sab jabaan

बचपन है ऐसा खजाना

Bachpan hai essa khajaana 

मुस्किल है इसको भूलना

Muskil hai isko bhoolna

for more life shayari stuff

पानी की महिमा धरती पर, है जिसने पहचानी-Hindi poem

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *