तो दर्द का हिसाब क्यूँ रखूं-Dard Bhari Shayari in hindi

Agar Mohabbat Kii Hadd Nhii Koii,

अगर मोहब्बत की हद नहीं कोई,

Tohh Drd Kaa Hisaab Kyuu Rak hoonn.

तो दर्द का हिसाब क्यूँ रखूं।

Naseehatt Acchchii Detii Hee Duniyaa,

नसीहत अच्छी देती है दुनिया,

Dard Bhari Shayari

Agrr Dardd Kisii Ghirr Kaa Hoo.

अगर दर्द किसी ग़ैर का हो।

Diljaloo See Dillagii Acchhi Nhii,

दिलजलों से दिल्लगी अच्छी नहीं,

Ronee Walonn See Hansii Acchhi Nhiii.

रोने वालों से हँसी अच्छी नहीं।

Haal Puchaa Naa Khairiyaatt Pucchi,

हाल पूछा न खैरियत पूछी,

Dard Bhari Shayari

Aaj Bee Usnee Haisiyaatt Pucchi.

आज भी उसने हैसियत पूछी।

Maan Letaa Hoon Teree Vaadee Koo,

मान लेता हूँ तेरे वादे को,

Bhull Jataa Hun Me Ki Tuu Hei Wehi.

भूल जाता हूँ मैं कि तू है वही।

Check the best Hindi Shayari Collection. कब्र कितनी ही संवारो कोई ज़िंदा नहीं होता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *