जैसे ये ज़िंदगी, ज़िंदगी नहीं-Life Shayari

Life Shayari

Samander Naa Shii Per Ekk Naadi Tooh Hoani Chiyee,

समंदर न सही पर एक नदी तो होनी चाहिए,

Teree Shahar Mei Zindagii Khai Tooh Hooni Chiyee.

तेरे शहर में ज़िंदगी कहीं तो होनी चाहिए।

Ekk Tooti Si Zindagi Koo Sametnee Kii Chahat The,

इक टूटी-सी ज़िंदगी को समेटने की चाहत थी,

Life Shayari

Naa Khbaar The Unn Tukdon Koo He Bikher Baithhengee.

न खबर थी उन टुकड़ों को ही बिखेर बैठेंगे हम।

Fikrr Hai Sab koo Khud Koo Shii Saabit Krnee Ki,

Life Shayari

फिक्र है सबको खुद को सही साबित करने की,

Jaisee Zindagi, Zindagi Nhi Koii Iljaam Hai.

जैसे ये ज़िंदगी, ज़िंदगी नहीं, कोई इल्जाम है।

like more Hurt Shayari ओ जाने वाले आ कि तेरे इंतजार में-Hindi Intezaar Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *