मुझे तो अँधेरों में जलना भी आता है-hindi poem

hindi poem

मुझे तो अँधेरों में जलना भी आता है

Mujhe toh andheron main jaalna bhi aata hai

hmराह कितनी भी मुश्किल हो पर चलना भी आता है।।

Raah kitne bhi muskhil hao per chalna bhi aata hai

कितने भी पत्थर बिछा दो तुम राहों में कोई फर्क नहीं पड़ता

Kitne bhi pather becha doo tum raaho main koi farak nhi padta 

क्योंकि मुझे गिरकर संभलना भी आता है।।

Kuki mujhe sambhalna bhi aata hai

hindi poem

हम नहीं मानते कि ये सब किस्मत में लिखा था

Ham nhi maante ki yeh sab kismat main likha tha 

इरादे के पक्के हैं हमें किस्मत बदलना भी आता है।।

raade ke pakke hain hamen kismat badalana bhee aata hai 

तुम्हें क्या लगता है हम यूँ ही रेंगते रहेंगे जमीन पर

Tumhe kya lagta hai ham yoon hee rengate rahenge jameen par

थोड़ी दम तो भरने दो हमें उछलना भी आता है।।

hindi poem for kids

thodee dam to bharane do hamen uchhalana bhee aata hai

तूने ये कैसे सोच लिया कि हम भी पत्थर दिल हैं तेरी तरह

tune ye kaise soch liya ki ham bhee patthar dil hain teree tarah

अरे तुम नज़रें तो झुकाओ हमें पिघलना भी आता है।

are tum nazaren to jhukao hamen pighalana bhee aata hai.

latest dua shayari collection and धरती होगी जगह न अच्छीो-hindi poem

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *