छम-छम बूँदे बरखा की- hindi poem

poem in Hindi

छम-छम बूँदे बरखा की

chham-chham boonde barakha kee

लेकर आई है संगीत नया

lekar aaee hai sangeet naya

हरियाली और प्रेम का

hariyaalee aur prem ka

hindi shayari

बना हो जैसे गीत नया

bana ho jaise geet naya

मनभावन-सा लगे हैं सावन

manbhaavan -saa laagne hai saave

हर चितवन हो गई है पावन

Har chetavn ho jayi hai paavan 

मेघों ने मानों झूमकर

Meggo ne maano jumkar

धरती की प्यास बुझाई है

Dharti ki piyas bhujai 

hindi poem for kids

खेलकर खेतों में

Khalkar  khato main

फैलकर रेतों में

Falkar raato main

मतवाली बरखा आई है

Mathwaali barkhaa aai hai

संग अपने

 Saag apne

त्यौहारों की भी

Tyauhaaron ki bhi

खुशहाली वो लाई है

Kushaali voo laai hai

To get more good morning shayari and more interesting फिर से बारिश का मौसम आया-hindi poem for kids

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *