Independence Day Poem, गणतंत्र दिवस फिर आया है

Hindi poem

आज नई सज-धज से

aaj naee saj-dhaj se

गणतंत्र दिवस फिर आया है।

ganatantr divas phir aaya hai

नव परिधान बसंती रंग का

Hindi poem

nav paridhaan basantee rang

माता ने पहनाया है।

maata ne pahanaaya hai.

भीड़ बढ़ी स्वागत करने को

bheed badhee svaagat karane

बादल झड़ी लगाते हैं।

megh varsha karen.

रंग-बिरंगे फूलों में

rang-birange phoolon

ऋतुराज खड़े मुस्काते हैं।

rturaaj khade muskaate hain.

Hindi poem

धरनी मां ने धानी साड़ी

dharanee maan ne dhaanee sari

पहन श्रृंगार सजाया है।

pahan shrrngaar sajaaya hai.

गणतंत्र दिवस फिर आया है।

ganatantr divas phir aaya hai

भारत की इस अखंडता को

bhaarat kee akhandata

तिलभर आंच न आने पाए।

tilabhar aanch na aane pae

हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई

Hindu, muslim, sikh,isai

मिलजुल इसकी शान बढ़ाएं।

milajul isakee shaan badhaen

युवा वर्ग सक्षम हाथों से

Yuva varg sarsham haatdo se 

आगे इसको सदा बढ़ाएं।

Aage isko sada badaye

इसकी रक्षा में वीरों ने

Iski raksha me veero ne

अपना रक्त बहाया है।

Apna rakth badaya hain

गणतंत्र दिवस फिर आया है।

ganatantr divas phir aaya hai

Also find the best collection of Alone Shayari in Hindi.जल फुहार बौछारें धारें गिरतीं झर झर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *