जो मिल गया उसी का हाथ थाम लिया-love poem in hindi

hindi poem on nature

शाम की तरह हम ढलते जा रहे है,

Shaam ki tarah ham dhalate jaa rhe hai

बिना किसी मंजिल के चलते जा रहे है।

Binna kissi manjali ke chalte jaa rhe hai 

लम्हे जो सम्हाल के रखे थे जीने के लिये ,

Lamhe jo samhaal ke rakhe the jeene ke liye

वो खर्च किये बिना ही पिघलते जा रहे है।

hindi poem on nature

Voo karch kiye bina hie pighalate jaa rhe hai

धुये की तरह विखर गयी जिन्दगी मेरी हवाओ मैं,

Duuye ki tara vikher gaye zindagi meri haavo mai

बचे हुये लम्हे सिगरेट की तरह जलते जा रहे है।

Bache hue laamhe siragate ki tarah galate jaa rhe hai

poem on mother in hindi

जो मिल गया उसी का हाथ थाम लिया,

Jo mill gaya ussi ka haath taam liya

हम कपडो की तरह हमसफर बदलते जा रहे है।

Ham kapdo ki tarah hamsafar badalte jaa rhe hai

we have best collection of hindi judai shayari and

Kartavya apana nibhaata shikshak-hindi diwas poem

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *