उड़ा के लाई है किस शहर में हवा मुझको।-Alone shayari

hindI Shayari

Kitnnii Ajebb Ha Isss Shahaarr Kee Tanhhaii Bee,

कितनी अजीब है इस शहर की तन्हाई भी,

Hajjaroo Loog He Magarr Koii Uss Jaisee Nhii Hee.

हजारों लोग हैं मगर कोई उस जैसा नहीं है।

Ekk Teree Naa Honee See Baddal Jataa Hee Subb Kuchh,

एक तेरे ना होने से बदल जाता है सब कुछ

alone shayari

Kall Dhoopp bee Deewarr Parr Poorii Nhi Utriii.

कल धूप भी दीवार पे पूरी नहीं उतरी।

Dil Gyaa Tooo Koii Aankheinn Bee Lee Jataa,

दिल गया तो कोई आँखें भी ले जाता,

Fakat Ekk He Tasvirr Khann Takk Dekhunn.

फ़क़त एक ही तस्वीर कहाँ तक देखूँ।

Kbhii Jabb goor See Dekhoogee Tooo Itnaa Jaann Jaoogee,

कभी जब गौर से देखोगे तो इतना जान जाओगे,

Tanhai Shayari

Kee Tum haree Binn Harr Lamhaaa Humaari Jaan Letaa Hee.

कि तुम्हारे बिन हर लम्हा हमारी जान लेता है।

Koii Rafeek, Naa Rahbarr, Naa Koi Rahh Gujarr,

कोई रफ़ीक़ न रहबर न कोई रहगुज़र,

Udaa Kee Layii Hee Kiss Shaharr Mee Hawaa Mujh koo.

उड़ा के लाई है किस शहर में हवा मुझको।को।

Find here the best Sad Shayari in hindi ! काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *