कितनी अज़ीयत है इस एहसास में-Maut Shayari

maut shayari

Doo Ghazz Zamin Shii Mei Milkiyaat Tohh Hae,

दो गज़ ज़मीन सही मेरी मिल्कियत तो है,

Ai Maut Tuu Nee Mujhh Koo Zamindaar Karr Diyaa.

ऐ मौत तूने मुझको ज़मींदार कर दिया।

Ai Maut Tujhee Ekk Dinn Aanaa Hae Bhaley,

ऐ मौत तुझे एक दिन आना है भले,

Maut Shayari

Aa Jatii Shab-e-Furkat Mei Tohh Ehsaan Hotaa.

आ जाती शबे फुरकत में तो अहसां होता।

Jala Hai Jismm Tohh Dill Bei Jaal Gya Hogaa,

जला है जिस्म तो दिल भी जल गया होगा,

Kuredtee Hoo Joo Abb Raakh Justjoo Kyaa Hai.

कुरेदते तो जो अब राख जुस्तजू क्या है।

Maut Shayari

Kitni Aziyaat Hai Iss Ehsaass Mei,

कितनी अज़ीयत है इस एहसास में,

Kee Mujhee Tujhsee Milee Binaa He Maar Janaa Hai.

कि मुझे तुझसे मिले बिना ही मर जाना है।

Haar Ekk Saans Kaa Tuu Ehtraam Kaar Varnaa,

हर एक साँस का तू एहतराम कर वरना,

Woo Jaab Chahee, Jahan Chahee, Aakhirii Kaar Dee.

वो जब भी चाहे, जहाँ चाहे, आखिरी कर दे।

Ai Hijr Wakt Tal Nahi Saktaa Hai Mauut Kaa,

ऐ हिज्र वक़्त टल नहीं सकता है मौत का,

Lekin Yee Dekhnaa Hai Kee Mitti Khan Kii Hai.

लेकिन ये देखना है कि मिट्टी कहाँ की है।

Kahanii Khatm Hoo Tohh Kuchh Aisee Khatm Hoo,

कहानी खत्म हो तो कुछ ऐसे खत्म हो,

Kee Log Ronee Lagee Taaliyaa Bajate Bajatee.

कि लोग रोने लगे तालियाँ बजाते बजाते। 

interested to read Aankhein Shayari and  many more कोई तो हाल-ए-दिल अपना भी समझेगा-Hate Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *