Maa Shayari, चलती फिरती आँखों से अज़ाँ देखी है

Maa Shayari

Chalti Firti Aankhoo See Azaan Dehii Hae,

चलती फिरती आँखों से अज़ाँ देखी है

Mai nee Jannat Tohh Nhi Dekhii Hae Maa Dekhii Hae.

मैंने जन्नत तो नहीं देखी है माँ देखी है।

Maa Shayari

Tere Kadmonn Mei Yehh Saaraa Jahann Hogaa Ekk Dinn,

तेरे क़दमों में ये सारा जहां होगा एक दिन,

Maa Kee Hothhon Pee Tabassumm Koo Sajaanee Wale.

माँ के होठों पे तबस्सुम को सजाने वाले।

Sarr Parr Joo Haath Feree Tohh Himmat Mil Jayee,

सर पर जो हाथ फेरे तो हिम्मत मिल जाये,

Maa Ekk Baarr Muskuraa Dee Tohh Jannat Mill Jayee.

माँ एक बार मुस्कुरा दे तो जन्नत मिल जाये।

Maa Shayari

Soona Soonaa Saa Mujhee Yehh Gharr Lagtaa hai,

सूना-सूना सा मुझे ये घर लगता है,

Maa Jabb Nhi Hotii Togh Bhut Darr Lagtaa Hai.

माँ जब नहीं होती तो बहुत डर लगता है।

Mai nee Kal Shab Chahton Ki Sab Kitaabein Faad Di,

मैंने कल शब चाहतों की सब किताबें फाड़ दी,

Sirf Ek Kagaz Par Lafze Maa Rahne Diya.

,सिर्फ एक कागज़ पर लफ्जे माँ रहने दिया।

Bhookh Toh Ek Roti Se Bhi Mit Jaati Maa,

भूख तो एक रोटी से भी मिट जाती माँ,

Agar Thali Ki Wo Roti Tere Haath Ki Hoti.

अगर थाली की वो रोटी तेरे हाथ की होती।

Read best insult shayari and many more  इस सलीके से मुझे क़त्ल किया है उसने-Hurt Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *