कोई तो हाल-ए-दिल अपना भी समझेगा-Hate Shayari

hindi shayari

katll Tohh Lazimm Hai Iss Bewafaa Shahar Mei,

क़त्ल तो लाजिम है इस बेवफा शहर में,

Jisee Dekhoo Dill Mei Nafrat Liyee Firtaa Hai.

जिसे देखो दिल में नफरत लिये फिरता है।

Lekarr Kee Meraa Naam Wohh Mujhee Kostaa Hai,

लेकर के मेरा नाम वो मुझे कोसता है,

Hate Shayari

Nafrat Hi Sahii Parr Wohh Mujhee Sochtaa Tohh Hai.

नफरत ही सही पर वो मुझे सोचता तो है।

Koi Tohh Haal-e-Dill Apna Bei Samjhegaa,

कोई तो हाल-ए-दिल अपना भी समझेगा,

Harr Shakhs Koo Nafrat Hoo zaroori Too Nhii.

हर शख्स को नफरत हो जरूरी तो नहीं।

nafarat shayari

Nafrat Maat Karr naa Hum see Hamee Buraa Lagegaa,

नफरत मत करना हमसे हमें बुरा लगेगा,

Buss Pyarr See Kaah Denaa Terii zaroorat Nhii Hai.

बस प्यार से कह देना तेरी जरुरत नहीं है।

read more Siyasat Shayari ਹੋ ਮੈ ਮਸੀਹਾ ਤੇਰੇ ਪਿੰਡ ਦਾ ਨੀ-Punjabi Shayari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *